Hindi
Tuesday 26th of September 2017
code: 80902
रमजान का महत्व।

قال رسول الله (صلى الله عليه و آله)
لو يعلم العبد ما فى رمضان لود ان يكون رمضان السنة
पैगम्बरे इस्लाम (स.) फ़रमाते हैं:
अगर ख़ुदा का बंदा जान लेता कि रमजान में है (क्या बरकतें और क्या रहमतें हैं) तो पूरे साल रमजान बाकी रहने की तमन्ना करता।
बिहारुल अनवार, भाग 93, पेज 346

user comment
 

latest article

  हज़रत अली अकबर अलैहिस्सलाम
  हज़रत फ़ातेमा ज़हरा (स) के फ़ज़ायल
  इमाम बाक़िर अ.स. अहले सुन्नत की निगाह में
  इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम के ज़माने के ...
  शहादते इमाम अली रज़ा अलैहिस्सलाम
  इमाम रज़ा अलैहिस्सलाम की शहादत
  इमामे रज़ा अलैहिस्सलाम
  सूरए आले इमरान की तफसीर
  जीवन में प्रगति के लिए इमाम सादिक (अ) की ...
  इमाम हसन (अ) के दान देने और क्षमा करने की ...